Tuesday, October 4, 2022
spot_img
Homedesh videshआत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2.0 राहत पैकेज - वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने...

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2.0 राहत पैकेज – वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने की घोषणा

Aatma Nirbhar Bharat 2.0: Government announces

एक तरफ जहां देश की अर्थव्यवस्था डूब रही है वहीं सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा एक बहुत बड़ा घोषणा कराया है। निर्मला सीतारमण ने बताया है कि आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2.0 के तहत सरकार ने बहुत ही अच्छा फैसला लिया है।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2.0 राहत पैकेज:

सरकार आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2.0 के तहत, इससे जुड़े लोगो के लिए बहुत ही बड़ा राहत पैकेज लेकर आयी है। निर्मला सीतारमन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए बताया कि आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत सरकार एक अहम फैसला ले चुकी है। इसके तहत सरकार इससे जुड़े कर्मचारियों को ईपीएफओ से जोड़ेगी। जिनकी तनख्वाह 15,000 से भी कम है उन लोगों को भी सरकार ईपीएफओ से जोड़ेगी ताकि उन्हे भी इस योजना का लाभ मिल सके। ऐसे कर्मचारी भी इस योजना से जुड़ेंगे जो पहले से पीएफ के लिए रजिस्टर नहीं थे। जो कर्मचारी अगस्त सितंबर तक नौकरी में नहीं थे , और उसके बाद पीएफ से जुड़े हैं उन्हें भी इस योजना का लाभ मिलेगा । यह योजना जून 30, 2021 तक लागू रहेगा।

लाभ के बारे में विस्तार से :

सरकार ने फैसला लिया है कि 2 साल तक 1000 तक की संख्या वाले कर्मचारियों वाले संस्थानों को नए भर्ती वाले कर्मचारी के पी एफ का पूरा 24% हिस्सा सब्सिडी के रूप में मिलेगा । यह योजना 1 अक्टूबर 2020 से लागू होगा। (1000) हजार से ज्यादा कर्मचारी वाले संस्थान में नए कर्मचारी के 12% पीएफ योगदान के लिए सरकार 2 साल तक सब्सिडी देगी । इससे करीब 95% संस्थान इस योजना के अन्तरगत आ जाएंगे जिससे करोड़ों कर्मचारियों को बहुत ही अच्छा लाभ मिलेगा।

निर्मला सीतारमण ने बताया कि आरबीआई ने तीसरे पॉजिटिव ग्रोथ का अनुमान जताया है। शेयर बाजार मार्केट में भी अच्छी बढ़त हुयी है, यह हमारे प्रयासों का ही नतीजा है । दरअसल अन्य देशों की तरह भारत भी मंदी के चपेट में आ चुका है । और इसकी इकोनॉमी डांवाडोल हो चुकी थी। सीतारमन ने बताया है कि अपने देश की स्थिति काफी तेजी से सुधर रही है। जीएसटी का कलेक्शन भी 10% बढ़ा है । करोना वायरस के मामले 10 लाख से घटकर 4.83 लाख हो गए हैं ।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments