Tuesday, October 4, 2022
spot_img
Homejobs educationबिहार में कोरोना से भी बड़ा मुद्दा STET 2019-20 विद्यार्थी पस्त सरकार...

बिहार में कोरोना से भी बड़ा मुद्दा STET 2019-20 विद्यार्थी पस्त सरकार मस्त।

बिहार (Bihar) बोर्ड ने राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा STET 2019-20

सरकारे तो आपने बहुत देखी होगी। लेकिन बिहार की सरकार इन सबसे अलग है। यह कि सरकार ने जैसे परिस्थितियों के सामने हथियार डाल दिया हो ।

बिहार का इतिहास अगर आप उठाकर देख ले तो सबसे पहले यह नॉकरी की मारामारी बहुत है । प्राइवेट सेक्टर यहां की परिस्थितियों के कारण स्थापित होता नही। ओर इन सब से परे सालो बाद अगर कुछ नॉकरी आती भी है तो जब तक वो कोर्ट कचहरी में सालो तक पवित्र नही होती तब तक बच्चो की ज्वाइनिंग नही हो पाती।

Bihar STET 2019-20

ऐसा ही कुछ 2019-20 में हुए STET परीक्षा के साथ हुआ । जब सालो बाद टीचर की नॉकरी निकली परीक्षा हुई। बड़े ताम झाम से हर सेंटर पर कैमरे लगाए गए, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैमर लगाए गए । यह तक कि बच्चो को बिना मोजे के , जूते नही सिर्फ चप्पल , बिना किसी पर्स ओर सामान के सेंटर पर 30 मिनट पहले बुलाया गया।और परीक्षा होने के बाद खुद आनंद किशोर जो कि BSEB के चेयरमैन है। खुद कहा था कि परीक्षा बिल्कुल साफ सुथरी हुई। और जिन सेंटरों पर गड़बड़ी हुई उनकी परीक्षा पुनः ली गई। बावजूद इसके बिहार सरकार को जिस दिन 15 मई को रिजल्ट देना था । उसके अगले दिन ही परीक्षा रद्द कर दी। बिना किसी विशेष कारण बताए।

अब जब मामला कोर्ट में चला गया है । तो सरकार पुनः जल्दबाज़ी करते हुए । ऑनलाइन परीक्षा की तिथि घोषित करने के मूड में दिखाई दे रही।जो कि सिंतबर अंतिम सप्ताह में होने की आशंका है।

बता दे कि STET विद्यार्थियो द्वारा इसके विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा है।और सरकार से लगातार अनुरोध किया जा रहा है। रिजल्ट घोषित करने हेतु। किन्तु इन सबका सरकार पर कोई असर होता नही दिख रहा। अब ऐसे में विद्यार्थियो की आखिरी उम्मीद कोर्ट ही है जहाँ से उन्हें केस पर अंतिम फैसला मिल सकता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments