Friday, December 9, 2022
HomeTrending NewsBuckingham Palace Announce King Charles Iii Will Be Crowned May 6 Next...

Buckingham Palace Announce King Charles Iii Will Be Crowned May 6 Next Year In Coronation At Westminster Abbey – King Charles Iii: किंग चार्ल्स Iii की ताजपोशी अगले साल, तारीख का भी किया गया एलान


किंग चार्ल्स III

किंग चार्ल्स III
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

ब्रिटेन के महाराजा चार्ल्स तृतीय की ताजपोशी अगले साल की जाएगी। इसके लिए छह मई 2023 की तारीख तय की गई है। समारोह वेस्टमिंस्टर एब्बे में होगा। बकिंघम पैलेस ने मंगलवार को यह घोषणा की। रॉयल फैमिली की ओर से किए ट्वीट में कहा गया कि किंग चार्ल्स III का राज्याभिषेक शनिवार छह मई 2023 को वेस्टमिंस्टर एब्बे में होगा। समारोह में किंग चार्ल्स III के साथ द क्वीन कंसोर्ट की भी ताजपोशी होगी।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पिछले महीने निधन के बाद उनके पुत्र 73 वर्षीय चार्ल्स को ब्रिटेन का महाराजा घोषित किया गया था, लेकिन उनके और उनकी पत्नी कैमिला के लिए भव्य राज्याभिषेक समारोह अगले साल शनिवार, छह मई को होगा। जिसमें रानी को भी ताज पहनाया जाएगा।

बकिंघम पैलेस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि राज्याभिषेक लंबे समय से चली आ रही परंपराओं और शाही शानो-शौकत को प्रदर्शित करने के अलावा महाराजा की मौजूदा और भविष्य की भूमिकाओं को दर्शाएगा। परंपरागत रूप से, राज्याभिषेक विशुद्ध रूप से एक संस्कारपूर्ण और धार्मिक आयोजन है, जिसे एक उत्सव के रूप में आयोजित किया जाता है। यह समारोह कैंटरबरी के आर्चबिशप, एंग्लिकन कम्युनियन के आध्यात्मिक प्रमुख द्वारा आयोजित किया जाएगा। पिछले 900 वर्षों से राज्याभिषेक समारोह वेस्टमिंस्टर एबे में आयोजित होता आया है।

राज्याभिषेक समारोह में उन्हें ताज और शाही सामग्री से विभूषित किया जाएगा। महाराजा को उनकी पत्नी महारानी कैमिला के साथ ताज पहनाया जाएगा। यह आमतौर पर नए राज के बनने के कई महीनों बाद होता है। परंपरा के अनुसार, इंग्लैंड जिसे बाद में ब्रिटेन और यूनाइटेड किंगडम का नाम दिया गया, के राजाओं और रानियों को 1066 में विलियम द कॉन्करर ( William the Conqueror) के बाद से वेस्टमिंस्टर एब्बे में ताज पहनाया जाता है।

गौरतलब है कि किंग चार्ल्स III की मां, जिनकी मृत्यु 96 वर्ष की आयु में उनके स्कॉटिश हॉलिडे होम में हुई थी, उन्होंने 70 वर्षों में सबसे लंबे समय तक शासन करने का रिकॉर्ड बनाया था। ब्रिटिश मीडिया ने कहा है कि चार्ल्स राज्याभिषेक के दौरान होने वाले कुछ परंपरागत भव्यता को कम करना चाहते हैं, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि यह देश जीवन संकट की लागत से जूझ रहा है। हालांकि रॉयल फैमिली की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ‘यह समारोह हमारे समय की भावना को पहचानते हुए पारंपरिक उत्सव के “मूल तत्वों” को बनाए रखेगा।’

बता दें कि 2 जून, 1953 को महारानी के रूप में एलिजाबेथ का राज्याभिषेक, सबसे पहले टेलीविजन पर दिखाया गया था और इसे राजशाही के आधुनिकीकरण में एक मील का पत्थर माना जाता है, यह एक ऐसा कदम था जिसके बारे में कहा जाता है कि उनके पति प्रिंस फिलिप ने इसका जोरदार समर्थन किया था। वेस्टमिंस्टर एब्बे के शाही संबंध व्यापक हैं, एलिजाबेथ की अंतिम संस्कार प्रक्रिया भी यहीं हुई थी और यह वह जगह भी है जहां चार्ल्स के बेटे और अब वारिस, प्रिंस विलियम ने अपनी पत्नी केट से शादी की थी। चार्ल्स न केवल यूनाइटेड किंगडम के राजा और देश के प्रमुख हैं, बल्कि ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जमैका, न्यूजीलैंड और पापुआ न्यू गिनी सहित 14 अन्य क्षेत्रों के भी हैं।

विस्तार

ब्रिटेन के महाराजा चार्ल्स तृतीय की ताजपोशी अगले साल की जाएगी। इसके लिए छह मई 2023 की तारीख तय की गई है। समारोह वेस्टमिंस्टर एब्बे में होगा। बकिंघम पैलेस ने मंगलवार को यह घोषणा की। रॉयल फैमिली की ओर से किए ट्वीट में कहा गया कि किंग चार्ल्स III का राज्याभिषेक शनिवार छह मई 2023 को वेस्टमिंस्टर एब्बे में होगा। समारोह में किंग चार्ल्स III के साथ द क्वीन कंसोर्ट की भी ताजपोशी होगी।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पिछले महीने निधन के बाद उनके पुत्र 73 वर्षीय चार्ल्स को ब्रिटेन का महाराजा घोषित किया गया था, लेकिन उनके और उनकी पत्नी कैमिला के लिए भव्य राज्याभिषेक समारोह अगले साल शनिवार, छह मई को होगा। जिसमें रानी को भी ताज पहनाया जाएगा।

बकिंघम पैलेस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि राज्याभिषेक लंबे समय से चली आ रही परंपराओं और शाही शानो-शौकत को प्रदर्शित करने के अलावा महाराजा की मौजूदा और भविष्य की भूमिकाओं को दर्शाएगा। परंपरागत रूप से, राज्याभिषेक विशुद्ध रूप से एक संस्कारपूर्ण और धार्मिक आयोजन है, जिसे एक उत्सव के रूप में आयोजित किया जाता है। यह समारोह कैंटरबरी के आर्चबिशप, एंग्लिकन कम्युनियन के आध्यात्मिक प्रमुख द्वारा आयोजित किया जाएगा। पिछले 900 वर्षों से राज्याभिषेक समारोह वेस्टमिंस्टर एबे में आयोजित होता आया है।

राज्याभिषेक समारोह में उन्हें ताज और शाही सामग्री से विभूषित किया जाएगा। महाराजा को उनकी पत्नी महारानी कैमिला के साथ ताज पहनाया जाएगा। यह आमतौर पर नए राज के बनने के कई महीनों बाद होता है। परंपरा के अनुसार, इंग्लैंड जिसे बाद में ब्रिटेन और यूनाइटेड किंगडम का नाम दिया गया, के राजाओं और रानियों को 1066 में विलियम द कॉन्करर ( William the Conqueror) के बाद से वेस्टमिंस्टर एब्बे में ताज पहनाया जाता है।

गौरतलब है कि किंग चार्ल्स III की मां, जिनकी मृत्यु 96 वर्ष की आयु में उनके स्कॉटिश हॉलिडे होम में हुई थी, उन्होंने 70 वर्षों में सबसे लंबे समय तक शासन करने का रिकॉर्ड बनाया था। ब्रिटिश मीडिया ने कहा है कि चार्ल्स राज्याभिषेक के दौरान होने वाले कुछ परंपरागत भव्यता को कम करना चाहते हैं, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि यह देश जीवन संकट की लागत से जूझ रहा है। हालांकि रॉयल फैमिली की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ‘यह समारोह हमारे समय की भावना को पहचानते हुए पारंपरिक उत्सव के “मूल तत्वों” को बनाए रखेगा।’

बता दें कि 2 जून, 1953 को महारानी के रूप में एलिजाबेथ का राज्याभिषेक, सबसे पहले टेलीविजन पर दिखाया गया था और इसे राजशाही के आधुनिकीकरण में एक मील का पत्थर माना जाता है, यह एक ऐसा कदम था जिसके बारे में कहा जाता है कि उनके पति प्रिंस फिलिप ने इसका जोरदार समर्थन किया था। वेस्टमिंस्टर एब्बे के शाही संबंध व्यापक हैं, एलिजाबेथ की अंतिम संस्कार प्रक्रिया भी यहीं हुई थी और यह वह जगह भी है जहां चार्ल्स के बेटे और अब वारिस, प्रिंस विलियम ने अपनी पत्नी केट से शादी की थी। चार्ल्स न केवल यूनाइटेड किंगडम के राजा और देश के प्रमुख हैं, बल्कि ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जमैका, न्यूजीलैंड और पापुआ न्यू गिनी सहित 14 अन्य क्षेत्रों के भी हैं।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img