Thursday, February 2, 2023
HomeTrending NewsCongress Presidential Poll: Kharge Vs Tharoor On Monday As Cong Set For...

Congress Presidential Poll: Kharge Vs Tharoor On Monday As Cong Set For Non-gandhi President After 24 Years – Congress Presidential Poll: कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए आज होगा मतदान, थरूर के मुकाबले खरगे का पलड़ा भारी


खरगे और थरूर के बीच मुकाबला

खरगे और थरूर के बीच मुकाबला
– फोटो : Amar Ujala

ख़बर सुनें

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खरगे और शशि थरूर सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनावी मुकाबले में आमने-सामने होंगे। इसी के साथ पार्टी को 24 से अधिक वर्षों में एक गैर गांधी अध्यक्ष मिलना तय है। 9,000 से अधिक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के प्रतिनिधि गुप्त मतदान में पार्टी प्रमुख को चुनने के लिए मतदान करेंगे। पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार चुनावी मुकाबले में एआईसीसी मुख्यालय और देश भर के 65 से अधिक मतदान केंद्रों पर मतदान होगा। इस दिलचस्प मुकाबले पर सभी की नजरें हैं, हालांकि हाईकमान का पसंदीदा नेता होने के नाते खरगे का पलड़ा भारी माना जा रहा है। 

राहुल गांधी कर्नाटक के संगनाकल्लू में करेंगे मतदान 
जहां पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के यहां एआईसीसी मुख्यालय में मतदान करने की उम्मीद है, वहीं राहुल गांधी कर्नाटक के संगनाकल्लू में भारत जोड़ो यात्रा शिविर में लगभग 40 अन्य यात्रियों के साथ मतदान करेंगे, जो पीसीसी के प्रतिनिधि हैं। थरूर अपना वोट केरल कांग्रेस मुख्यालय तिरुवनंतपुरम में डालेंगे, जबकि खरगे बेंगलुरु में कर्नाटक कांग्रेस कार्यालय में मतदान करेंगे। खरगे को गांधी परिवार से उनकी कथित निकटता और वरिष्ठ नेताओं के समर्थन के लिए पसंदीदा माना जा रहा है, वहीं थरूर ने खुद को बदलाव के उम्मीदवार के रूप में पेश किया है।

थरूर ने उठाया असमान मुकाबले का मुद्दा 
प्रचार के दौरान भले ही थरूर ने असमान मुकाबले के मुद्दों को उठाया, लेकिन पार्टी ने यह सुनिश्चित किया है कि गांधी तटस्थ हैं और कोई आधिकारिक उम्मीदवार नहीं है। प्रतिनिधियों को लुभाने के अभियान के तहत खरगे और थरूर ने अभियान के आखिरी दिन बेंगलुरू में और बाद में लखनऊ में जोरदार अपील की। बेंगलुरू में बोलते हुए खरगे ने कहा कि अगर वह अध्यक्ष बनते हैं उन्हें पार्टी के मामलों को चलाने में गांधी परिवार की सलाह और समर्थन लेने में कोई शर्म नहीं होगी, क्योंकि उन्होंने संघर्ष किया है और इसके विकास के लिए अपनी ताकत लगाई है।  

थरूर  ने खरगे का समर्थन करने वाले नेताओं पर कसा तंज 
इस बीच थरूर ने खरगे का समर्थन करने वाले कुछ वरिष्ठ नेताओं पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा कि कुछ सहयोगी ‘नेतागिरी’ में लिप्त हैं और पार्टी कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि वे जानते हैं कि सोनिया गांधी किसे निर्वाचित करना चाहती हैं। यदि किसी के मन में भय या संदेह है, तो पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि यह एक गुप्त मतदान होगा, उन्होंने लखनऊ में कहा और कांग्रेस के प्रतिनिधियों से नए पार्टी अध्यक्ष का चुनाव करने के लिए मतदान करते समय उनके दिल की बात सुनने का आग्रह किया।

जबकि खरगे खेमे ने उनके लिए वोट मांगने के लिए एक अभियान वीडियो साझा किया, जिसमें राहुल गांधी के साथ भारत जोड़ो यात्रा में फिल्म ‘लक्ष्य’ के गाने ‘कंधों से मिलते हैं कंधे’ के साथ चलने के दृश्य शामिल थे, थरूर ने एक उत्साही वीडियो जारी किया ट्विटर पर अपील करते हुए मतदाताओं से परिवर्तन को गले लगाने के लिए साहस दिखाने का आह्वान किया।

विस्तार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खरगे और शशि थरूर सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनावी मुकाबले में आमने-सामने होंगे। इसी के साथ पार्टी को 24 से अधिक वर्षों में एक गैर गांधी अध्यक्ष मिलना तय है। 9,000 से अधिक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के प्रतिनिधि गुप्त मतदान में पार्टी प्रमुख को चुनने के लिए मतदान करेंगे। पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार चुनावी मुकाबले में एआईसीसी मुख्यालय और देश भर के 65 से अधिक मतदान केंद्रों पर मतदान होगा। इस दिलचस्प मुकाबले पर सभी की नजरें हैं, हालांकि हाईकमान का पसंदीदा नेता होने के नाते खरगे का पलड़ा भारी माना जा रहा है। 

राहुल गांधी कर्नाटक के संगनाकल्लू में करेंगे मतदान 

जहां पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के यहां एआईसीसी मुख्यालय में मतदान करने की उम्मीद है, वहीं राहुल गांधी कर्नाटक के संगनाकल्लू में भारत जोड़ो यात्रा शिविर में लगभग 40 अन्य यात्रियों के साथ मतदान करेंगे, जो पीसीसी के प्रतिनिधि हैं। थरूर अपना वोट केरल कांग्रेस मुख्यालय तिरुवनंतपुरम में डालेंगे, जबकि खरगे बेंगलुरु में कर्नाटक कांग्रेस कार्यालय में मतदान करेंगे। खरगे को गांधी परिवार से उनकी कथित निकटता और वरिष्ठ नेताओं के समर्थन के लिए पसंदीदा माना जा रहा है, वहीं थरूर ने खुद को बदलाव के उम्मीदवार के रूप में पेश किया है।

थरूर ने उठाया असमान मुकाबले का मुद्दा 

प्रचार के दौरान भले ही थरूर ने असमान मुकाबले के मुद्दों को उठाया, लेकिन पार्टी ने यह सुनिश्चित किया है कि गांधी तटस्थ हैं और कोई आधिकारिक उम्मीदवार नहीं है। प्रतिनिधियों को लुभाने के अभियान के तहत खरगे और थरूर ने अभियान के आखिरी दिन बेंगलुरू में और बाद में लखनऊ में जोरदार अपील की। बेंगलुरू में बोलते हुए खरगे ने कहा कि अगर वह अध्यक्ष बनते हैं उन्हें पार्टी के मामलों को चलाने में गांधी परिवार की सलाह और समर्थन लेने में कोई शर्म नहीं होगी, क्योंकि उन्होंने संघर्ष किया है और इसके विकास के लिए अपनी ताकत लगाई है।  

थरूर  ने खरगे का समर्थन करने वाले नेताओं पर कसा तंज 

इस बीच थरूर ने खरगे का समर्थन करने वाले कुछ वरिष्ठ नेताओं पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा कि कुछ सहयोगी ‘नेतागिरी’ में लिप्त हैं और पार्टी कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि वे जानते हैं कि सोनिया गांधी किसे निर्वाचित करना चाहती हैं। यदि किसी के मन में भय या संदेह है, तो पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि यह एक गुप्त मतदान होगा, उन्होंने लखनऊ में कहा और कांग्रेस के प्रतिनिधियों से नए पार्टी अध्यक्ष का चुनाव करने के लिए मतदान करते समय उनके दिल की बात सुनने का आग्रह किया।

जबकि खरगे खेमे ने उनके लिए वोट मांगने के लिए एक अभियान वीडियो साझा किया, जिसमें राहुल गांधी के साथ भारत जोड़ो यात्रा में फिल्म ‘लक्ष्य’ के गाने ‘कंधों से मिलते हैं कंधे’ के साथ चलने के दृश्य शामिल थे, थरूर ने एक उत्साही वीडियो जारी किया ट्विटर पर अपील करते हुए मतदाताओं से परिवर्तन को गले लगाने के लिए साहस दिखाने का आह्वान किया।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img