Thursday, February 2, 2023
HomeTrending NewsFta Well On Track, Will Wait And See, Piyush Goyal After Uk...

Fta Well On Track, Will Wait And See, Piyush Goyal After Uk Pm Liz Truss Resignation – ब्रिटेन : ट्रस के इस्तीफे के बाद Fta पर बोले पीयूष गोयल- सियासी हालात बदले, हम इंतजार करेंगे और देखेंगे


पीयूष गाोयल

पीयूष गाोयल
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

ब्रिटिश प्रधानमंत्री लिज ट्रस के इस्तीफा देने के बाद भारत के साथ होने जा रहे उसके मुक्त व्यापार समझौता भी खटाई में पड़ता दिख रहा है। हालांकि, केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को भरोसा देते हुए कहा कि यह समझौता सही दिशा में जा रहा है, भारत इस पर ब्रिटेन के साथ आगे बढ़ने से पहले वहां के नेतृत्व में बदलाव की प्रतीक्षा करेगा।

गोयल ने कहा कि हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि क्या उनके पास तुरंत नेतृत्व परिवर्तन के लिए कोई विकल्प है। देखते हैं कि सरकार में कौन आता है और उनके विचार क्या हैं। इसके बाद ही हम यूके के साथ एक रणनीति तैयार कर पाएंगे।

बता दें कि ब्रिटेन की प्रधान मंत्री ट्रस ने दो महीने से भी कम समय तक सत्ता में रहने के बाद गुरुवार को इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने यह कहते हुए इस्तीफा दिया कि वह मानती हैं कि वह जनादेश की आकांक्षाओं पर खरी नहीं उतर सकतीं, जिसके लिए वह चुनी गई थीं।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के राष्ट्रीय निर्यात शिखर सम्मेलन के मौके पर गोयल ने कहा कि ब्रिटेन के राजनेताओं और व्यवसायों ने माना कि उनके लिए भी भारत के साथ एक एफटीए करना बहुत महत्वपूर्ण है.. लेकिन मुझे विश्वास है कि यूके, कनाडा, ईयू के साथ हमारे एफटीए में से एक या दो हम जल्द ही लॉन्च कर सकते हैं, जो अच्छी तरह से अपनी सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

यूके के पीएम ने अपने इस्तीफे के भाषण में कहा कि मैं महान आर्थिक और अंतरराष्ट्रीय अस्थिरता के समय में कार्यालय में आई थी। लोग और उद्योग अपने बिलों का भुगतान करने को लेकर चिंतित थे, यूक्रेन में पुतिन के बेमतलब के युद्ध से हमारे पूरे महाद्वीप और हमारे देश की सुरक्षा को खतरा है। इसके कारण देश का आर्थिक विकास बहुत लंबे समय से रुका हुआ है। ट्रस ने कहा कि जब तक कोई उत्तराधिकारी नहीं चुना जाता, तब तक मैं प्रधानमंत्री बनी रहूंगी। धन्यवाद।

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने कहा था कि यह देखना अच्छा होगा कि भारत और यूके के बीच जल्द ही किसी तरह का एफटीए हो जाए, परंतु ऐसे मामलों को वार्ताकारों पर छोड़ देना ही ज्यादा बेहतर होता है। दिवाली तक यह सौदा पूरा करने का लक्ष्य था, लेकिन ऐसे लक्ष्य बातचीत पर निर्भर करते हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए इन समझौतों के आपसी क्रियान्वयन की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि बातचीत जारी है और दोनों पक्ष किसी ऐसे एफटीए पर पहुंचने के इच्छुक हैं जिससे दोनों देशों को मदद मिले।

विस्तार

ब्रिटिश प्रधानमंत्री लिज ट्रस के इस्तीफा देने के बाद भारत के साथ होने जा रहे उसके मुक्त व्यापार समझौता भी खटाई में पड़ता दिख रहा है। हालांकि, केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को भरोसा देते हुए कहा कि यह समझौता सही दिशा में जा रहा है, भारत इस पर ब्रिटेन के साथ आगे बढ़ने से पहले वहां के नेतृत्व में बदलाव की प्रतीक्षा करेगा।

गोयल ने कहा कि हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि क्या उनके पास तुरंत नेतृत्व परिवर्तन के लिए कोई विकल्प है। देखते हैं कि सरकार में कौन आता है और उनके विचार क्या हैं। इसके बाद ही हम यूके के साथ एक रणनीति तैयार कर पाएंगे।

बता दें कि ब्रिटेन की प्रधान मंत्री ट्रस ने दो महीने से भी कम समय तक सत्ता में रहने के बाद गुरुवार को इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने यह कहते हुए इस्तीफा दिया कि वह मानती हैं कि वह जनादेश की आकांक्षाओं पर खरी नहीं उतर सकतीं, जिसके लिए वह चुनी गई थीं।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के राष्ट्रीय निर्यात शिखर सम्मेलन के मौके पर गोयल ने कहा कि ब्रिटेन के राजनेताओं और व्यवसायों ने माना कि उनके लिए भी भारत के साथ एक एफटीए करना बहुत महत्वपूर्ण है.. लेकिन मुझे विश्वास है कि यूके, कनाडा, ईयू के साथ हमारे एफटीए में से एक या दो हम जल्द ही लॉन्च कर सकते हैं, जो अच्छी तरह से अपनी सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

यूके के पीएम ने अपने इस्तीफे के भाषण में कहा कि मैं महान आर्थिक और अंतरराष्ट्रीय अस्थिरता के समय में कार्यालय में आई थी। लोग और उद्योग अपने बिलों का भुगतान करने को लेकर चिंतित थे, यूक्रेन में पुतिन के बेमतलब के युद्ध से हमारे पूरे महाद्वीप और हमारे देश की सुरक्षा को खतरा है। इसके कारण देश का आर्थिक विकास बहुत लंबे समय से रुका हुआ है। ट्रस ने कहा कि जब तक कोई उत्तराधिकारी नहीं चुना जाता, तब तक मैं प्रधानमंत्री बनी रहूंगी। धन्यवाद।

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने कहा था कि यह देखना अच्छा होगा कि भारत और यूके के बीच जल्द ही किसी तरह का एफटीए हो जाए, परंतु ऐसे मामलों को वार्ताकारों पर छोड़ देना ही ज्यादा बेहतर होता है। दिवाली तक यह सौदा पूरा करने का लक्ष्य था, लेकिन ऐसे लक्ष्य बातचीत पर निर्भर करते हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए इन समझौतों के आपसी क्रियान्वयन की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि बातचीत जारी है और दोनों पक्ष किसी ऐसे एफटीए पर पहुंचने के इच्छुक हैं जिससे दोनों देशों को मदद मिले।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img