Friday, December 9, 2022
HomeTrending NewsHarish Rawat Yoga Outside The Police Station Bjp Said Politics Does Not...

Harish Rawat Yoga Outside The Police Station Bjp Said Politics Does Not Shine With Lungi Dance Uttarakhand – Uttarakhand Politics: थाने के बाहर हरीश रावत का हठयोग, भाजपा ने कसा तंज, कहा- लुंगी डांस से नहीं चमकती राजनीति


उत्तराखंड कांग्रेस के कद्दावर राजनीतिज्ञ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अब पुलिस थाने के बाहर हठयोग को लेकर चर्चाओं में हैं। हरिद्वार जिले के बहादराबाद थाने में हरीश रावत धोती (लुंगी) पहने एक ही जगह पर खड़े होकर वॉक करते हुए उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। उनके इस वीडियो पर प्रदेश भाजपा ने तंज किया कि लुंगी डांस से राजनीति नहीं चलती।

विवाद की वजह हरिद्वार जिले में हाल ही में संपन्न हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव हैं। चुनाव के दौरान पुलिस ने कई लोगों पर मुकदमें दर्ज किए। हरीश रावत की बेटी हरिद्वार ग्रामीण की विधायक अनुपमा रावत का आरोप है कि राजनीतिक साजिश के तहत कांग्रेस कार्यकर्ताओं के विरुद्व झूठे मुकदमें दर्ज किये गए। वे इन मुकदमों को वापस लेने की मांग कर रही हैं। 

इस मांग के समर्थन में अनुपमा के पिता पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी धरने पर इस हठ के साथ बैठ गए हैं कि जब तक मुकदमें वापस नहीं होंगे, वे डटे रहेंगे। अब उनका दिन और रात पुलिस थाने के मुख्य द्वार के बाहर कट रहा है। उन्होंने वहां अपना बिस्तर लगा दिया है। सुबह उठकर वे थाने के मुख्य गेट के बाहर ही योग अभ्यास आदि कर रहे हैं। ऐसा एक वीडियो सोशल मीडिया पर शनिवार को वायरल भी हुआ। इस वीडियो की सियासी हलकों में जमकर चर्चा हो रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि हरिद्वार ने मुझे नया जीवन दिया है, तो मैं सोचता हूं कि समय आ गया है कि बजाय कांग्रेस कार्यकर्ताओं को तकलीफ देने के, मैं ही अपने जीवन को अर्पित कर दूं।

मुख्यमंत्री की परीक्षा कर लेते हैं, वो मानवीय दृष्टि से सोचते हैं या विशुद्ध तौर से राजनीतिक दृष्टि से सोचते हैं। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के हठयोग पर तंज किया कि लुंगी डांस से राजनीति नहीं चमकती। इसे उन्होंने ओछी राजनीति करार दिया। भट्ट ने कहा कि चुनाव के दौरान विघ्न और बाधाएं डालने के मामले में पुलिस में मुकदमें दर्ज किए।

ये भी पढ़ें…Surya Grahan 2022:  सूर्य ग्रहण के दौरान बंद रहेंगे चारधाम सहित छोटे-बड़े मंदिर, 12 घंटे पहले लग जाएगा सूतक

कहा कि यदि कोई उत्पीड़न की कार्रवाई हुई है तो इसके लिए न्यायालय है, जहां अपना पक्ष रखा जा सकता है। किसी पर भी दोषारोपण करना सर्वथा अनुचित है।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img