Friday, December 9, 2022
HomeTrending NewsMulayam Singh Yadav Passed Away Live: Sp Founder Ka Antim Sanskar Saifai,...

Mulayam Singh Yadav Passed Away Live: Sp Founder Ka Antim Sanskar Saifai, Image, Son Akhilesh Yadav Breaking N – Mulayam Singh Yadav Funeral News Live: आज तीन बजे सैफई में होगा अंतिम संस्कार, अंतिम यात्रा के लिए वाहन तैयार


09:53 AM, 11-Oct-2022

कुछ देर में मेला ग्राउंड ले जाया जाएगा पार्थिव शरीर 

कुछ देर में मुलायम सिंह यादव का पार्थिव शरीर मेला ग्राउंड ले जाया जाएगा। अंतिम यात्रा के लिए वाहन तैयार हो गया है। वाहन को फूलों से सजाया गया है। वहीं, मुलायम सिंह के आवास के बाहर समर्थकों की अंतिम दर्शन करने के लिए भारी उमड़ी है।

 

09:43 AM, 11-Oct-2022

अंतिम संस्कार में रक्षा मंत्री, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला सहित कई नेता होंगे शामिल

पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का अंतिम संस्कार आज किया जाएगा। तस्वीरें उनके पैतृक आवास इटावा के सैफई से हैं। अंतिम संस्कार में रक्षा मंत्री, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल होंगे।

 

09:21 AM, 11-Oct-2022

तेजस्वी यादव भी हो सकते हैं अंतिम संस्कार में शामिल

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी मुलायम सिंह के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं। सपा संरक्षक मुलायम सिंह के अंतिम दर्शन के लिए कई राजनीतिक दलों के दिग्गज भी सैफई पहुंच रहे हैं।

09:04 AM, 11-Oct-2022

सैफई में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार के लिए सैफई में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उनके आवास वाले रास्ते पर बैरिकेडिंग की गई है। 

08:38 AM, 11-Oct-2022

मुलायम आवास पर नेता जी के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग

मुलायम सिंह यादव के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचने वालों का तांता लगा हुआ है। उनके पैतृक घर सैफई में श्रद्धांजलि देने के लिए बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। 

 

08:29 AM, 11-Oct-2022

जयाप्रदा ने ‘नेता जी’ के निधन पर जताया शोक

रामपुर लोकसभा क्षेत्र की पूर्व सांसद एवं फिल्म अभिनेत्री जयाप्रदा ने सपा मुखिया एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के निधन पर दुख जताया है। सांसद जयाप्रदा ने कहा कि आदरणीय नेताजी के स्वर्गवास होने का समाचार सुनकर बहुत दुःख हुआ। मै जब समाजवादी पार्टी में थी तब मै नेताजी से बहुत प्रभावित थी वह हमेशा परिवार और समाज को बाँधकर चलने की बात करते थे और उन्होंने ही समाजवादी पार्टी को और परिवार को एक माला में पिरो कर रखा। 

विज्ञापन

08:11 AM, 11-Oct-2022

10 बजे सैफई के मेला ग्राउंड में रखा जाएगा मुलायम सिंह का पार्थिव शरीर

नेताजी के अंतिम दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर मंगलवार सुबह 10 बजे सैफई मेला ग्राउंड के पंडाल में रखा जाएगा। मुलायम सिंह के पार्थिव शरीर के दर्शन के लिए सैफई में लोग बड़ी संख्या में यूपी के अलग-अलग जिलों से आ रहे हैं। दोपहर तीन बजे उन्हें मुखाग्नि दी जाएगी।

07:57 AM, 11-Oct-2022

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला भी हो सकते हैं अंतिम संस्कार में शामिल

सपा संरक्षक मुलायम सिंह के अंतिम दर्शन के लिए कई राजनीतिक दलों के दिग्गज भी सैफई पहुंच रहे हैं। वहीं, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और कई मुख्यमंत्रियों के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है। 

07:41 AM, 11-Oct-2022

ममता और नीतीश भी हो सकते हैं अंतिम संस्कार में शामिल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ ही कई केंद्रीय और प्रदेश स्तर के मंत्रियों के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं।

07:18 AM, 11-Oct-2022

‘धरतीपुत्र’ की वो ख्वाहिश जो अधूरी रह गई

कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता, कहीं जमीन तो कहीं आसमां नहीं मिलता…। निदा फाजली का ये शेर ‘धरतीपुत्र’ मुलायम सिंह पर चरितार्थ होता है। प्रधानमंत्री बनने की उनकी ख्वाहिश अधूरी रह गई। 1996 और 1999 में दो बार दिल्ली की सत्ता में काबिज होते-होते वह दौड़ में पिछड़ गए। उनके अपनों ने ही पत्ता काट दिया। इसकी कसक ताउम्र उन्हें सालती रही। 

 

07:17 AM, 11-Oct-2022

नेता असाधारण, व्यवहार साधारण

मुलायम परिश्रमपूर्वक साधारण से असाधारण नेता बने, लेकिन लोकव्यवहार में हमेशा साधारण ही बने रहे। अकेले दम पर पार्टी बनाई। कई बार मुख्यमंत्री रहे। रक्षा मंत्री रहे, लेकिन यारी-दोस्ती और मित्रता में अपने-पराए में भेद नहीं किया। विपक्ष में भी जिससे दोस्ती हुई, उससे आजीवन निभाया। यारों के यार थे मुलायम सिंह। हृदय नारायण दीक्षित, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष

07:03 AM, 11-Oct-2022

आतंकवाद पर फौज की सख्ती के हक में थे मुलायम

समाजवादी पार्टी के संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव कश्मीर के हालात पर खास नजर रखते थे। घाटी में हालात बिगड़ने पर उन्होंने कई बार सेना को खुला हाथ देने और अलगाववादियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की वकालत की। समाजवादी पार्टी के स्थापना वर्ष 1992 में भी जम्मू-कश्मीर में उथल पुथल चल रही थी। इसके चार साल बाद केंद्र में देवगौड़ा सरकार बनी तो मुलायम सिंह यादव को रक्षा मंत्री का जिम्मा सौंपा गया। 

06:59 AM, 11-Oct-2022

कैबिनेट बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि दी जाएगी

योगी आदित्यनाथ सरकार की कैबिनेट बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। सुबह 11 बजे लोक भवन में होगी कैबिनेट बैठक।

06:51 AM, 11-Oct-2022

सैफई परिवार की तीन पीढ़ियों को मैनपुरी से पहुंचाया संसद

मुलायम सिंह यादव की कर्मभूमि रही मैनपुरी ने केवल नेताजी के ही सियासी सफर को उड़ान नहीं दी बल्कि सैफई परिवार की तीन पीढ़ियां इसी मैनपुरी के रास्ते संसद तक पहुंचीं। एक बार नेताजी ने सीट छोड़कर भतीजे धर्मेंद्र यादव को संसद पहुंचाया तो वहीं दूसरी बार पौत्र तेजप्रताप यादव के लिए सीट छोड़ी। दोनों ही बार नेताजी की इच्छा का भी मैनपुरी की जनता ने सम्मान किया और भारी बहुमत से जीत दिलाई।

06:44 AM, 11-Oct-2022

हेलिकॉप्टर से नीचे देख बता देते थे कौन सा गांव है 

पूर्व वरिष्ठ सपा नेता गोपाल अग्रवाल ने बताया कि मुलायम सिंह यादव जमीनी नेता थे। हेलिकाप्टर से चलते थे तो नीचे देखकर ये बता दिया करते थे कि कौन से गांव के ऊपर से उड़ रहे हैं। 2006 में मेरठ में 30-31 अक्तूबर और एक नवंबर को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय सम्मलेन का आयोजन किया गया था। इस सम्मेलन की कमान मुलायम सिंह यादव ने उनको सौंपी थी। सम्मेलन के लिए मेरठ में किसी बड़े मैदान का चयन होना था। उन्होंने नेताजी को मेरठ के कई बड़े मैदानों के नाम सम्मेलन के लिए बताए, लेकिन हर मैदान की भौगोलिक स्थित और आम लोगों को होने वाली परेशानी को बताकर वे टाल देते थे। बाद में विक्टोरिया पार्क में रैली को सहमत हुए।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img