Tuesday, December 6, 2022
HomeTrending NewsPakistan Reports Molestation Of A Woman Every Two Hours: Survey - Pakistan:...

Pakistan Reports Molestation Of A Woman Every Two Hours: Survey – Pakistan: पाकिस्तान में हर घंटे दो महिलाओं से होता है दुष्कर्म, सजा की दर महज 0.2 फीसदी


सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : pixabay

ख़बर सुनें

 हाल ही में एक सर्वेक्षण के अनुसार पाकिस्तान में हर दो घंटे में एक महिला के साथ दुष्कर्म होता है। देश में महिलाओं के लिए असुरक्षित हालात पर प्रकाश डाला गया है, जहां ऑनर किलिंग के मामले भी बड़े पैमाने पर सामने आते हैं। पंजाब प्रांत के गृह विभाग और मानव अधिकार मंत्रालय से एकत्र किए गए आंकड़ों के आधार पर पाकिस्तानी चैनल समा टीवी की जांच इकाई (SIU) द्वारा किए गए सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि महिलाओं के दुष्कर्म के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन सजा की दर बहुत ही कम 0.2 प्रतिशत है।

2017 से 2021 तक देश में 21,900 महिलाओं के साथ दुष्कर्म
नए आंकड़ों से पता चला है कि 2017 से 2021 तक देश में 21,900 महिलाओं के साथ दुष्कर्म होने की सूचना मिली थी। इसका मतलब है कि देश भर में रोजाना लगभग 12 महिलाओं या हर दो घंटे में एक महिला के साथ दुष्कर्म किया गया। सर्वेक्षणकर्ताओं के अनुसार, ये रिपोर्ट किए गए मामले मामूली हैं क्योंकि सामाजिक कलंक और प्रतिशोधात्मक हिंसा के डर से महिलाएं ऐसी घटनाओं की रिपोर्ट नहीं करती हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि 2017 में दुष्कर्म के लगभग 3,327 मामले दर्ज किए गए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 में यह 4,456 मामलों तक पहुंच गया, 2019 में 4,573 मामले, 2020 में 4,478 मामले और फिर 2021 में बढ़कर 5,169 मामले हो गए।

केवल 4 फीसदी मामलों की सुनवाई हुई 
2022 में मीडिया ने देश भर में दुष्कर्म के 305 मामले दर्ज किए। मई में 57, जून में 91, जुलाई में 86 और अगस्त में 71 मामले सामने आए। पहले मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि पंजाब में मई 2022 से अगस्त 2022 तक लगभग 350 बलात्कार के मामले सामने आए, लेकिन साल के पहले चार महीनों के लिए कोई डेटा उपलब्ध नहीं था। 2022 में पाकिस्तान की 44 अदालतों में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के 1,301 मामलों की सुनवाई हुई। पुलिस ने 2,856 मामलों में चार्जशीट दाखिल की। लेकिन केवल 4 फीसदी मामलों की सुनवाई हुई। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अवधि के दौरान दुष्कर्म के मामलों में दोषसिद्धि दर महज 0.2 प्रतिशत रही। 2020 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने अदालतों में महिला विरोधी पूर्वाग्रह वाले 75 देशों में पाकिस्तान को शीर्ष स्थान दिया था। इस साल जुलाई में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम द्वारा जारी एक रिपोर्ट ने पाकिस्तान को लैंगिक समानता के मामले में दूसरे सबसे खराब देश के रूप में रखा और 146 देशों के एक सर्वेक्षण में इसे 145 वें स्थान पर रखा। पाकिस्तान से खराब प्रदर्शन करने वाला एकमात्र अफगानिस्तान था।

विस्तार

 हाल ही में एक सर्वेक्षण के अनुसार पाकिस्तान में हर दो घंटे में एक महिला के साथ दुष्कर्म होता है। देश में महिलाओं के लिए असुरक्षित हालात पर प्रकाश डाला गया है, जहां ऑनर किलिंग के मामले भी बड़े पैमाने पर सामने आते हैं। पंजाब प्रांत के गृह विभाग और मानव अधिकार मंत्रालय से एकत्र किए गए आंकड़ों के आधार पर पाकिस्तानी चैनल समा टीवी की जांच इकाई (SIU) द्वारा किए गए सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि महिलाओं के दुष्कर्म के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन सजा की दर बहुत ही कम 0.2 प्रतिशत है।

2017 से 2021 तक देश में 21,900 महिलाओं के साथ दुष्कर्म

नए आंकड़ों से पता चला है कि 2017 से 2021 तक देश में 21,900 महिलाओं के साथ दुष्कर्म होने की सूचना मिली थी। इसका मतलब है कि देश भर में रोजाना लगभग 12 महिलाओं या हर दो घंटे में एक महिला के साथ दुष्कर्म किया गया। सर्वेक्षणकर्ताओं के अनुसार, ये रिपोर्ट किए गए मामले मामूली हैं क्योंकि सामाजिक कलंक और प्रतिशोधात्मक हिंसा के डर से महिलाएं ऐसी घटनाओं की रिपोर्ट नहीं करती हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि 2017 में दुष्कर्म के लगभग 3,327 मामले दर्ज किए गए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 में यह 4,456 मामलों तक पहुंच गया, 2019 में 4,573 मामले, 2020 में 4,478 मामले और फिर 2021 में बढ़कर 5,169 मामले हो गए।

केवल 4 फीसदी मामलों की सुनवाई हुई 

2022 में मीडिया ने देश भर में दुष्कर्म के 305 मामले दर्ज किए। मई में 57, जून में 91, जुलाई में 86 और अगस्त में 71 मामले सामने आए। पहले मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि पंजाब में मई 2022 से अगस्त 2022 तक लगभग 350 बलात्कार के मामले सामने आए, लेकिन साल के पहले चार महीनों के लिए कोई डेटा उपलब्ध नहीं था। 2022 में पाकिस्तान की 44 अदालतों में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के 1,301 मामलों की सुनवाई हुई। पुलिस ने 2,856 मामलों में चार्जशीट दाखिल की। लेकिन केवल 4 फीसदी मामलों की सुनवाई हुई। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अवधि के दौरान दुष्कर्म के मामलों में दोषसिद्धि दर महज 0.2 प्रतिशत रही। 2020 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने अदालतों में महिला विरोधी पूर्वाग्रह वाले 75 देशों में पाकिस्तान को शीर्ष स्थान दिया था। इस साल जुलाई में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम द्वारा जारी एक रिपोर्ट ने पाकिस्तान को लैंगिक समानता के मामले में दूसरे सबसे खराब देश के रूप में रखा और 146 देशों के एक सर्वेक्षण में इसे 145 वें स्थान पर रखा। पाकिस्तान से खराब प्रदर्शन करने वाला एकमात्र अफगानिस्तान था।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img