Tuesday, October 4, 2022
spot_img
HomeUncategorizedमानहानि केस: व्यक्तिगत पेशी से छूट चाहते हैं राहुल गांधी, अदालत में...

मानहानि केस: व्यक्तिगत पेशी से छूट चाहते हैं राहुल गांधी, अदालत में लगाई अर्जी

ठाणे. महाराष्ट्र के ठाणे जिले में स्थित भिवंडी की एक अदालत में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक आवेदन दाखिल कर अपने खिलाफ दायर मानहानि के एक मामले में व्यक्तिगत तौर पर पेश होने से स्थायी छूट की मांग की है. न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी (जेएमएफसी) जे. वी. पालीवाल ने मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के स्थानीय कार्यकर्ता राजेश कुंटे (शिकायतकर्ता) को आवेदन पर जवाब देने का निर्देश दिया और मामले की सुनवाई की तारीख 18 मई तक बढ़ा दी.

साल 2014 में राजेश कुंटे ने ठाणे के भिवंडी बस्ती में राहुल गांधी का भाषण सुनने के बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज किया था. शिकायतकर्ता का कहना है कि राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि महात्मा गांधी की हत्या के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का हाथ था. कुंटे ने दावा किया था कि इस बयान से आरएसएस की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है.

राहुल गांधी का तर्क

मंगलवार को दाखिल किए गए अपने आवेदन में गांधी ने कहा कि संसद सदस्य होने के नाते उन्हें अपने निर्वाचन क्षेत्र (वायनाड, केरल) का दौरा करना पड़ता है. साथ ही पार्टी के कार्यों में शामिल होना पड़ता है और इसके लिए बहुत यात्राएं करनी पड़ती हैं. इसलिए उन्हें अदालत में व्यक्तिगत रूप से पेश होने से छूट दी जाए.

कुंटे को मिली छूट

राहुल के वकील नारायण अय्यर ने कहा कि गांधी ने अपने आवेदन में यह भी कहा है कि सुनवाई में जब भी आवश्यक हो, उनके वकील को उनका प्रतिनिधित्व करने की अनुमति दी जाए. वहीं मंगलवार को ही  कुंटे ने भी पेशी से छूट की मांग करते हुए एक आवेदन दिया था और कहा था कि वह अस्वस्थ हैं. अदालत ने उन्हें अनुमति दे दी थी.

कुंटे ने राहुल को दिए थे 1500 रुपये

साल 2018 में अदालत ने मामले में राहुल गांधी के खिलाफ आरोप तय किए थे. गांधी ने अदालत के समक्ष खुद को निर्दोष बताया था. पिछले महीने अदालत के निर्देश के अनुसार, कुंटे ने गांधी को 1,500 रुपये का भुगतान किया, क्योंकि उन्होंने (कुंटे ने) मामले में स्थगन की मांग की थी.

कुंटे ने मार्च और अप्रैल में दो बार मामले में स्थगन की मांग की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था और कुंटे से राहुल गाँधी को 500 रुपये (मार्च के लिए) और 1,000 रुपये (अप्रैल के लिए) का भुगतान करने के लिए कहा था.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments