Saturday, February 4, 2023
HomeTrending NewsSupreme Court Updates: Everybody Is Impressed With Gujarat: Sc On Judicial Infrastructure...

Supreme Court Updates: Everybody Is Impressed With Gujarat: Sc On Judicial Infrastructure – Supreme Court News: ‘हर कोई गुजरात से प्रभावित है’, यूपी के एएजी की दलील पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी


सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट
– फोटो : Social Media

ख़बर सुनें

एक मामले में सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता की टिप्पणी के जवाब में सु्प्रीम कोर्ट ने दिलचस्प टिप्पणी की। इस दौरान अदालत ने कहा, ‘हर कोई गुजरात से प्रभावित है’। उत्तर प्रदेश की अतिरिक्त महाधिवक्ता वाणिज्यिक अदालतों के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए गुजरात मॉडल को अपनाने के राज्य के प्रयास के बारे में बता रही थीं। जस्टिस एम आर शाह और एम एम सुंदरेश की पीठ को यूपी की अतिरिक्त महाधिवक्ता गरिमा प्रसाद ने सूचित किया कि कुछ सरकारी अधिकारियों ने अहमदाबाद और वडोदरा में अदालत परिसरों का दौरा किया और सुविधाओं से प्रभावित हुए। इस पर पीठ ने कहा, हर कोई गुजरात से प्रभावित है। 

एएजी बोले, गुजरात जैसी बुनियादी सुविधाएं देने के प्रयास होंगे 
शीर्ष अदालत ने एएजी की इस दलील पर गौर किया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गुजरात जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए अदालतों में सभी प्रयास किए जाएंगे, जिसके लिए शुरुआत में 10 जिलों की पहचान की गई है। पीठ निचली न्यायपालिका के लिए बुनियादी ढांचे और अन्य बजटीय प्रावधानों पर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी। शीर्ष अदालत ने पहले कहा था कि यह राज्य सरकार का कर्तव्य है कि वह पर्याप्त बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराए और वाणिज्यिक अदालतों और अन्य अदालत भवनों के लिए बजटीय प्रावधान करे।

शीर्ष अदालत ने कहा कि निष्पादन याचिकाएं और व्यावसायिक विवादों से उत्पन्न कार्यवाही दशकों से यूपी में लंबित हैं और राज्य के आर्थिक विकास को प्रभावित कर सकती हैं। राज्य के साथ-साथ प्रशासनिक पक्ष पर उच्च न्यायालय को एक समाधान खोजने के लिए एक साथ काम करने की आवश्यकता है। उसे यह देखना होगा कि अदालतों में लंबित वाणिज्यिक विवादों को जल्द से जल्द निपटाया जाए।

पूर्व मीडिया कारोबारी पीटर मुखर्जी के बेटे राहुल मुखर्जी ने शीना बोरा हत्या मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत में गुरुवार को कहा कि उन्हें अब भी लगता है कि उनके पिता निर्दोष हैं। सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश एस. पी. नाइक-निंबालकर के समक्ष मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी के वकील रंजीत सांगले उनसे जिरह कर रहे थे। इस मामले में इंद्राणी के पूर्व पति पीटर मुखर्जी को भी गिरफ्तार किया गया था। इंद्राणी समेत सभी आरोपी जमानत पर बाहर हैं।

शीना (24) की उसकी मां ने 2012 में सह-आरोपी संजीव खन्ना और उसके चालक श्यामवर राय की मदद से कथित तौर पर हत्या कर दी थी। हत्या का खुलासा 2015 में हुआ था। अधिवक्ता सांगले के एक सवाल का जवाब देते हुए राहुल ने कहा कि पीटर मुखर्जी की गिरफ्तारी के बाद भी उन्होंने लगातार मीडिया से कहा था कि मेरे पिता निर्दोष हैं। मामले के गवाह राहुल ने अदालत से कहा कि मैं अभी भी उसी रुख पर कायम हूं कि मेरे पिता निर्दोष हैं। मैं अब भी अपने पिता से प्यार करता हूं। 
 

विस्तार

एक मामले में सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता की टिप्पणी के जवाब में सु्प्रीम कोर्ट ने दिलचस्प टिप्पणी की। इस दौरान अदालत ने कहा, ‘हर कोई गुजरात से प्रभावित है’। उत्तर प्रदेश की अतिरिक्त महाधिवक्ता वाणिज्यिक अदालतों के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए गुजरात मॉडल को अपनाने के राज्य के प्रयास के बारे में बता रही थीं। जस्टिस एम आर शाह और एम एम सुंदरेश की पीठ को यूपी की अतिरिक्त महाधिवक्ता गरिमा प्रसाद ने सूचित किया कि कुछ सरकारी अधिकारियों ने अहमदाबाद और वडोदरा में अदालत परिसरों का दौरा किया और सुविधाओं से प्रभावित हुए। इस पर पीठ ने कहा, हर कोई गुजरात से प्रभावित है। 

एएजी बोले, गुजरात जैसी बुनियादी सुविधाएं देने के प्रयास होंगे 

शीर्ष अदालत ने एएजी की इस दलील पर गौर किया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गुजरात जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए अदालतों में सभी प्रयास किए जाएंगे, जिसके लिए शुरुआत में 10 जिलों की पहचान की गई है। पीठ निचली न्यायपालिका के लिए बुनियादी ढांचे और अन्य बजटीय प्रावधानों पर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी। शीर्ष अदालत ने पहले कहा था कि यह राज्य सरकार का कर्तव्य है कि वह पर्याप्त बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराए और वाणिज्यिक अदालतों और अन्य अदालत भवनों के लिए बजटीय प्रावधान करे।

शीर्ष अदालत ने कहा कि निष्पादन याचिकाएं और व्यावसायिक विवादों से उत्पन्न कार्यवाही दशकों से यूपी में लंबित हैं और राज्य के आर्थिक विकास को प्रभावित कर सकती हैं। राज्य के साथ-साथ प्रशासनिक पक्ष पर उच्च न्यायालय को एक समाधान खोजने के लिए एक साथ काम करने की आवश्यकता है। उसे यह देखना होगा कि अदालतों में लंबित वाणिज्यिक विवादों को जल्द से जल्द निपटाया जाए।





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img