Wednesday, February 1, 2023
HomeTrending NewsVande Bharat Western Railway To Spend 264 Cr To Build Fences Along...

Vande Bharat Western Railway To Spend 264 Cr To Build Fences Along Mumbai Ahmedabad Route To Stop Animal Hits – वंदे भारत: मुंबई-अहमदाबाद रेलवे ट्रैक पर होगी तारबंदी, पश्चिम रेलवे खर्च करेगी 264 करोड़ रुपये


वंदे भारत एक्सप्रेस

वंदे भारत एक्सप्रेस
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

पश्चिम रेलवे ने शुक्रवार को कहा कि मई 2023 तक पशुओं को ट्रैक पर आने से रोकने के लिए तारबंदी की जाएगी। ताकि मुंबई-अहमदाबाद रेलवे ट्रैक पर आवारा पशुओं को आने से रोका जा सके। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक अशोक कुमार मिश्रा ने चर्चगेट स्थित रेलवे जोन के मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मुंबई-अहमदाबाद 620 किलोमीटर लंबे रेलवे ट्रैक पर तारबंदी की जाएगी। जिसके लिए निविदाएं आमंत्रित की गई हैं, जिस पर 264 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। 

गुजरात के गांधीनगर और देश की वित्तीय राजधानी के बीच 30 सितंबर को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना की गई तीसरी वंदे भारत एक्सप्रेस अभी तक चार बार पशुओं से टकरा चुकी है। ताजा घटना गुरुवार शाम गुजरात के उदवाड़ा और वापी स्टेशन के बीच हुई। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों के अनुसार, तारबंदी करीब 1.5 मीटर की ऊंचाई तक की जाएगी। मिश्रा ने बताया कि फायदा यह होगा कि लोग इसे पार कर सकते हैं लेकिन जानवर नहीं। 

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वजह से यात्रियों की संख्या में कमी आई थी। पश्चिम रेलवे बदले हुए यात्रा पैटर्न के अनुसार सेवाओं को बढ़ाने के बारे में सोच रहा है। उपनगरीय यात्रा पैटर्न में बदलाव के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि बहुत से यात्रियों के निजी वाहनों पर जाने की कोई प्रबल संभावना नहीं थी। उन्होंने कहा कि पश्चिम रेलवे के उपनगरीय नेटवर्क से मेट्रो रेल प्रणाली में स्थानांतरित होने वाले लोगों की संख्या का डेटा उपलब्ध नहीं था। लोअर परेल में पटरियों पर डेलिसल पुल के निर्माण पर अपडेट करते हुए, मिश्रा ने कहा कि रेलवे क्षेत्र के ऊपर का हिस्सा जनवरी 2023 तक पूरा हो जाएगा। महाप्रबंधक ने कहा कि पश्चिम रेलवे ने नगर निकाय के अधिकार क्षेत्र में आगे के काम के लिए मुंबई नगर निगम को सौंपा है।
 

विस्तार

पश्चिम रेलवे ने शुक्रवार को कहा कि मई 2023 तक पशुओं को ट्रैक पर आने से रोकने के लिए तारबंदी की जाएगी। ताकि मुंबई-अहमदाबाद रेलवे ट्रैक पर आवारा पशुओं को आने से रोका जा सके। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक अशोक कुमार मिश्रा ने चर्चगेट स्थित रेलवे जोन के मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मुंबई-अहमदाबाद 620 किलोमीटर लंबे रेलवे ट्रैक पर तारबंदी की जाएगी। जिसके लिए निविदाएं आमंत्रित की गई हैं, जिस पर 264 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। 

गुजरात के गांधीनगर और देश की वित्तीय राजधानी के बीच 30 सितंबर को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना की गई तीसरी वंदे भारत एक्सप्रेस अभी तक चार बार पशुओं से टकरा चुकी है। ताजा घटना गुरुवार शाम गुजरात के उदवाड़ा और वापी स्टेशन के बीच हुई। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों के अनुसार, तारबंदी करीब 1.5 मीटर की ऊंचाई तक की जाएगी। मिश्रा ने बताया कि फायदा यह होगा कि लोग इसे पार कर सकते हैं लेकिन जानवर नहीं। 

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वजह से यात्रियों की संख्या में कमी आई थी। पश्चिम रेलवे बदले हुए यात्रा पैटर्न के अनुसार सेवाओं को बढ़ाने के बारे में सोच रहा है। उपनगरीय यात्रा पैटर्न में बदलाव के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि बहुत से यात्रियों के निजी वाहनों पर जाने की कोई प्रबल संभावना नहीं थी। उन्होंने कहा कि पश्चिम रेलवे के उपनगरीय नेटवर्क से मेट्रो रेल प्रणाली में स्थानांतरित होने वाले लोगों की संख्या का डेटा उपलब्ध नहीं था। लोअर परेल में पटरियों पर डेलिसल पुल के निर्माण पर अपडेट करते हुए, मिश्रा ने कहा कि रेलवे क्षेत्र के ऊपर का हिस्सा जनवरी 2023 तक पूरा हो जाएगा। महाप्रबंधक ने कहा कि पश्चिम रेलवे ने नगर निकाय के अधिकार क्षेत्र में आगे के काम के लिए मुंबई नगर निगम को सौंपा है।

 





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img