Saturday, January 28, 2023
HomeTrending NewsVrindavan Banke Bihari Temple Management Issues Advisory Ahead New Year 2023 -...

Vrindavan Banke Bihari Temple Management Issues Advisory Ahead New Year 2023 – Mathura: 25 दिसंबर से 5 जनवरी तक बच्चे-बुजुर्ग और बीमार बांकेबिहारी मंदिर में न आएं, एडवाइजरी जारी


सोमवार को बांकेबिहारी मंदिर में उमड़ी भीड़

सोमवार को बांकेबिहारी मंदिर में उमड़ी भीड़
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

वृंदावन के ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में हर दिन हजारों की संख्या में भक्त अपने आराध्य के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं। भक्तों की भीड़ को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने नए साल पर मंदिर में आने वाले भक्तों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि 25 दिसंबर से पांच जनवरी तक मंदिर में बड़ी संख्या में भक्तों के आने की संभावना है। ऐसे में बच्चे, बुजुर्ग और बीमार ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन करने न आएं।

एडवाइजरी के अनुसार दिसंबर के अंतिम दिनों में 25 दिसंबर से पांच जनवरी तक मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ेगी। ऐसे में श्रद्धालु मंदिर प्रबंधन और प्रशासन द्वारा बनाई गई रूट व्यवस्था का पालन करें। मंदिर प्रशासन ने अपील की है कि इस दौरान बच्चे, बुजुर्गों और बीमार लोगों को मंदिर में न लाएं। जूते-चप्पल अपनी गाड़ियों व अन्य जगहों पर ही उतारकर आएं। एडवाइजरी में बांके बिहारी के मंदिर में जेब कतरों से सावधान रहने की बात भी कही गई है।

ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में वैसे तो भक्तों की भीड़ हमेशा ही रहती है लेकिन खास दिनों जैसे होली, जन्माष्टमी, दिवाली और नए वर्ष पर तो यहां पैर रखने की जगह नहीं होती है। वीकेंड में भी हजारों भक्त वृंदावन पहुंचते हैं। नए वर्ष के महज चंद दिन बचे हैं, ऐसे में मंदिर प्रबंधन ने भीड़ के मद्देनजर भक्तों को सलाह दी है। 

गाइडलाइन का पालन करने की अपील 

मंदिर प्रबंधक मुनीष शर्मा ने अपील की है भीड़ के कारण लोगों को दिक्कत हो सकती है। इसलिए गाइडलाइन का पालन करें। अगर कुछ संदिग्ध नजर आए या लावारिस वस्तु मिले तो इसकी जानकारी तुरंत पुलिस को दें। बांकेबिहारी पुलिस चौकी पर मंदिर प्रशासन की ओर से द्वारा खोया-पाया केंद्र बनाया गया है।

यह भी कहा गया है एडवाइजरी में 

– श्रद्धालु पुलिस और प्रबंधन की गाइडलाइन के अनुसार रूट व्यवस्था का पालन करें। 
– भीड़ के दिनों में श्रद्धालु कीमती सामान लेकर न पहुंचें।
– मंदिर प्रबंधन द्वारा एंट्री प्वाइंटों पर बनाए जूताघरों में जूते व सामान रखकर ही मंदिर आएं। 
– मंदिर में दर्शन के बाद न तो मंदिर में रुकें और न ही रास्ते में कहीं रुकें।

सोमवार को उमड़ी भारी भीड़ 

ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में जन्माष्टमी पर हुए हादसे के बाद अधिकारियों के लिए मंदिर एक प्रयोगशाला बन गया है। नए-नए प्रयोग हुए लेकिन मंदिर में भीड़ का दबाव कम होने की बजाए और बढ़ रहा है। हर दिन हो रहे प्रयोगों से जहां आम लोग परेशान हो रहे हैं वहीं दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 

सोमवार को एकादशी के अवसर पर बड़ी संख्या में भक्त श्रीबांकेबिहारी के दर्शन के लिए उमड़े। आस्था के इस सैलाब के आगे सभी व्यवस्थाएं नाकाफी नजर आईं। एकादशी पर सुबह 8:45 पर दर्शन खुलने से पूर्व ही ठाकुरजी के दर्शन करने की अभिलाषा लेकर लोग मंदिर के बाहर खड़े दिखाई दिए। 

धीरे-धीरे मंदिर के बाहर भीड़ इतनी बढ़ती गई कि भीड़ के दबाव को देखकर मंदिर के सुरक्षागार्ड और पुलिस कर्मियों के हाथ पैर फूल गए। निजी सुरक्षा गार्ड लोगों को बाहर की ओर निकालने का प्रयास कर रहे थे लेकिन भीड़ अंदर से बाहर नहीं निकल रही थी, जबकि बाहर से मंदिर में लगातार भक्त प्रवेश कर रहे थे। इससे मंदिर के अंदर के हालात बिगड़ते गए।

विस्तार

वृंदावन के ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में हर दिन हजारों की संख्या में भक्त अपने आराध्य के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं। भक्तों की भीड़ को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने नए साल पर मंदिर में आने वाले भक्तों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि 25 दिसंबर से पांच जनवरी तक मंदिर में बड़ी संख्या में भक्तों के आने की संभावना है। ऐसे में बच्चे, बुजुर्ग और बीमार ठाकुर बांकेबिहारी के दर्शन करने न आएं।

एडवाइजरी के अनुसार दिसंबर के अंतिम दिनों में 25 दिसंबर से पांच जनवरी तक मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ेगी। ऐसे में श्रद्धालु मंदिर प्रबंधन और प्रशासन द्वारा बनाई गई रूट व्यवस्था का पालन करें। मंदिर प्रशासन ने अपील की है कि इस दौरान बच्चे, बुजुर्गों और बीमार लोगों को मंदिर में न लाएं। जूते-चप्पल अपनी गाड़ियों व अन्य जगहों पर ही उतारकर आएं। एडवाइजरी में बांके बिहारी के मंदिर में जेब कतरों से सावधान रहने की बात भी कही गई है।

ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में वैसे तो भक्तों की भीड़ हमेशा ही रहती है लेकिन खास दिनों जैसे होली, जन्माष्टमी, दिवाली और नए वर्ष पर तो यहां पैर रखने की जगह नहीं होती है। वीकेंड में भी हजारों भक्त वृंदावन पहुंचते हैं। नए वर्ष के महज चंद दिन बचे हैं, ऐसे में मंदिर प्रबंधन ने भीड़ के मद्देनजर भक्तों को सलाह दी है। 





Source link

RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular

Recent Comments

spot_img