कोझीकोड विमान दुर्घटना नहीं बल्कि हत्या है ऐसा कहना है वायु सुरक्षा विशेषज्ञ मोहन रंगनाथन का।

कोझीकोड विमान दुर्घटना

जैसा की हम सब जानते कल रात कोझीकोड में विमान दुर्घटना का शिकार हो गया जिसमे एक पायलट और सह-पायलट सहित कम से कम 18 लोग मारे गए यह सब एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट Boeing 737 NG IX 1344 में सफर कर रहे थे। यह हादसा विमान के रनवे पे फ़िसलने के वजह से हुआ और फ्लाइट दो टुकड़ो में बट गया जो केरल के कोझिकोड हवाई अड्डे पे लैंड कर रहा था। यह सभी यात्री सरकार के वंदे भारत मिशन के तहत कोविद -19 महामारी के बीच दुबई में फंसे भारतीयों को फ्लाइट से लाया जा रहा था। बड़ी मुश्किल से भारत तक पहुँचते यह एक्सीडेंट हो गया।

वही वायु सुरक्षा विशेषज्ञ रंगनाथन, जो की नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा गठित एक सुरक्षा सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं, ने कहा कि उन्होंने लगभग नौ साल पहले एक रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें चेतावनी दी गई थी कि कोझीकोड हवाई अड्डा लैंडिंग के लिए सुरक्षित नहीं है।

“चेतावनी को नजरअंदाज कर दिया गया… मेरी राय में, यह एक दुर्घटना नहीं बल्कि एक हत्या है। रंगनाथन ने कहा कि उनके स्वयं के ऑडिट ने सुरक्षा मुद्दों को चिह्नित किया है। और अगर उनके सुझाव को नहीं माना गया तोह ऐसे दुर्घटना पटना और जम्मू के एयरपोर्ट में हो सकते है क्यूंकि वहां के रनवे के हालत खस्ता है।

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह केरल में दुर्घटना स्थल में हालत का जायज़ा लेने पहुँच गए है। कई एक्सपर्ट की मने तो केरल का प्लेन क्रैश की वज़ह इसका लैंडिंग रनवे है जो की एक Table Top रनवे है – एक टेबलटॉप रनवे एक पठार या पहाड़ी के ऊपर बना होता है जिसमें एक या दोनों एक खड़ी ऊंचाई से सटे होते हैं, जो एक कण्ठ में गिरता है। इस तरह के हवाई अड्डे लैंडिंग के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहते हैं।

Leave a Reply